आक्रामकता का शिकार हुए बच्चों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस

महत्वपूर्ण दिन, पुस्तकें और लेखक

4 जून को संयुक्त राष्ट्र द्वारा इंटरनेशन डे ऑफ इनोसेंट चिल्ड्रन ऑफ एग्रेशन यानि आक्रामकता का शिकार हुए मासूम बच्चों का अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है।

यह दिन "दुनिया भर के बच्चों द्वारा झेले गए दर्द को स्वीकार करने के उद्देश्य से मनाया गया था जो शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक शोषण के शिकार हैं। यह दिन दुनिया भर के उन मासूम बच्चों पर केंद्रित है जो हिंसा और दुर्व्यवहार के शिकार हैं।

इस दिन को मनाने को संयुक्त राष्ट्र ने फिलिस्तीन के सवाल पर एक आपातकालीन विशेष सत्र के दौरान मंजूरी दी थी। 19 अगस्त, 1982 को दिन के लिए मंजूरी दी गई थी।

बच्चों के अधिकारों की रक्षा के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा यह दिवस मनाया गया, क्योंकि वे दर्द और पीड़ा के सबसे निर्दोष पीड़ितों में से हैं।

हाल के आंकड़ों के अनुसार, लगभग 536 मिलियन बच्चे संघर्ष या आपदाओं से प्रभावित देशों में रहते हैं। हर साल करीब 20 करोड़ बच्चे हर साल यौन हिंसा के शिकार होते हैं।

इस दिन का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य 16 यानी 2030 तक बच्चों के खिलाफ दुर्व्यवहार, शोषण, तस्करी और सभी प्रकार की हिंसा को समाप्त करना है।

इस दिन का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य 16 यानी 2030 तक बच्चों के खिलाफ दुर्व्यवहार, शोषण, तस्करी और सभी प्रकार की हिंसा को समाप्त करना है।

निम्नलिखित देश बच्चों के लिए असुरक्षित हैं - पाकिस्तान, मिस्र, मोजाम्बिक, वियतनाम, चीन, अर्जेंटीना, रूस, नाइजीरिया और इंडोनेशिया।

 

   परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण बिंदु:

  • 1982 से, संयुक्त राष्ट्र (यूएन) 4 जून को 'आक्रामकता के शिकार मासूम बच्चों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस' मनाता है।
  • यह दिन दुनिया भर के उन बच्चों के दर्द को स्वीकार करने के उद्देश्य से मनाया गया जो शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक शोषण के शिकार हैं।
  • यह दिन दुनिया भर के उन बच्चों पर केंद्रित है जो हिंसा और दुर्व्यवहार के शिकार निर्दोष हैं।
  • बच्चों के अधिकारों की रक्षा के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा यह दिवस मनाया गया, क्योंकि वे दर्द और पीड़ा के सबसे निर्दोष पीड़ितों में से हैं।
  • इस दिन का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य 16 यानी 2030 तक बच्चों के खिलाफ दुर्व्यवहार, शोषण, तस्करी और सभी प्रकार की हिंसा को समाप्त करना है।

   जानने के लिए तथ्य:

  • संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना 1945 में हुई थी।
  • संयुक्त राष्ट्र का मुख्यालय: न्यूयॉर्क, यूएसए।
  • संयुक्त राष्ट्र के महासचिव: श्री एंटोनियो गुटेरेस।
preparing for jeet

क्या आप सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं?

यह आपकी जीत का रास्ता है

View courses