पीएम मोदी के द्वारा पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन स्कीम का अनावरण किया गया

राष्ट्रीय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'पीएम केयर फॉर चिल्ड्रेन' योजना के तहत लाभों को दर्शाया है। इस योजना के तहत, सरकार बच्चों को उनकी दैनिक जरूरतों के लिए वित्तीय सहायता के रूप में प्रति माह 4000 रुपये देगी।

यह योजना COVID-19 की दूसरी लहर के बाद शुरू की गई थी, जो उन बच्चों को लाभान्वित करती है जिन्होंने अपने माता-पिता को कोविड -19 महामारी में खो दिया था।

इस योजना के तहत, एक पात्र बच्चा तेईस वर्ष का होने पर 10 लाख रुपये प्राप्त करने का हकदार है। साथ ही, बच्चों को 18 वर्ष की आयु से उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य और मंथली स्टाइपेंड के लिए वित्तीय सहायता प्राप्त होगी।

कार्यक्रम में 'पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन' योजना की पासबुक और 'आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना' के तहत 5 लाख रुपये तक के इलाज के लिए लाभार्थियों को स्वास्थ्य कार्ड सौंपा गया।

दैनिक जरूरतों के लिए, अन्य योजनाओं के माध्यम से प्रत्येक माह 4,000 रुपये आवंटित किए गए हैं और इससे बच्चों को व्यावसायिक पाठ्यक्रमों या उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण प्राप्त करने में भी मदद मिलेगी।

कुल 9,042 आवेदनों में से लगभग 4300 अनाथ बच्चों को लाभ के पात्र के रूप में अनुमोदित किया गया। इसे एक ऑनलाइन पोर्टल, सिंगल-विंडो सिस्टम के माध्यम से अनुमोदित किया गया।

 

   परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण बिंदु:

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'पीएम केयर फॉर चिल्ड्रेन' योजना के तहत लाभ जारी किए।
  • यह योजना COVID-19 की दूसरी लहर के बाद शुरू की गई थी, जो उन बच्चों को लाभान्वित करती है जिन्होंने अपने माता-पिता को कोविड -19 महामारी में खो दिया था।
  • इस योजना के तहत, एक पात्र बच्चा तेईस वर्ष का होने पर 10 लाख रुपये प्राप्त करने का हकदार है। साथ ही, बच्चों को 18 वर्ष की आयु से उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य और मंथली स्टाइपेंड के लिए वित्तीय सहायता प्राप्त होगी।
  • दैनिक जरूरतों के लिए, अन्य योजनाओं के माध्यम से प्रत्येक माह 4,000 रुपये आवंटित किए गए हैं और इससे बच्चों को व्यावसायिक पाठ्यक्रमों या उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण प्राप्त करने में भी मदद मिलेगी।

   जानने योग्य तथ्य:

  • 'पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन' योजना 29 मई, 2021 को शुरू की गई थी।
  • यह योजना इन बच्चों में से प्रत्येक को पीएम केयर्स फंड से 10 लाख रुपये का कोष प्रदान करती है।
  • शिक्षा के लिए मल्टी-मोड एक्सेस को सक्षम करने के लिए 2020 में पीएम ई-विद्या नामक एक पहल शुरू की गई थी।

Related Current Affairs

preparing for jeet

क्या आप सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं?

यह आपकी जीत का रास्ता है

View courses