एलएंडटी इंफोटेक, माइंडट्री ने पांचवीं सबसे बड़ी आईटी सेवा प्रदाता बनाने के लिए विलय की घोषणा की है

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड ने अपनी दो सॉफ्टवेयर फर्मों एलएंडटी इंफोटेक लिमिटेड और माइंडट्री लिमिटेड के बीच विलय की घोषणा की। यह विलय भारत की पांचवीं सबसे बड़ी आईटी फर्म बनाता है, जिसका संयुक्त बाजार मूल्यांकन 136,000 करोड़ रुपये है। विलय के बाद एलएंडटी इंफोटेक में एलएंडटी की 68.73% हिस्सेदारी होगी।

एलएंडटी इंफोटेक ने एक्सचेंजों को सूचित किया कि उसके प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी संजय जलोना और माइंडट्री के सीईओ देबाशीष चटर्जी संयुक्त इकाई के प्रमुख होंगे। माइंडट्री के सभी शेयरधारकों को एलएंडटी इंफोटेक के शेयर माइंडट्री के प्रत्येक 100 शेयरों के लिए एल और टी इन्फोटेक के 73 शेयरों के अनुपात में जारी किए जाएंगे।

फिलहाल, कंपनियां स्वतंत्र रूप से काम करती रहेंगी। विलय की प्रक्रिया पूरी होने तक बदलाव की निगरानी के लिए एक संचालन समिति का गठन किया जाएगा। संयुक्त इकाई का नाम “LTIMindtree” होगा।

 

   परीक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण बिंदु:

  • लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड ने अपनी दो सॉफ्टवेयर फर्मों एलएंडटी इंफोटेक लिमिटेड और माइंडट्री लिमिटेड के बीच विलय की घोषणा की।
  • 136,000 करोड़ रुपये के संयुक्त बाजार मूल्यांकन के साथ विलय भारत की पांचवीं सबसे बड़ी आईटी फर्म बनाता है।
  • संयुक्त इकाई का नाम “LTIMindtree” होगा।
  • एलएंडटी इंफोटेक ने बताया कि उसके प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी संजय जलोना और माइंडट्री के सीईओ देबाशीष चटर्जी संयुक्त इकाई के प्रमुख होंगे।

   जानने के लिए तथ्य:

  • लार्सन ने 2019 में माइंडट्री का नियंत्रण हासिल कर लिया।
  • कंपनी में समूह की लगभग 61% हिस्सेदारी है।

Related Current Affairs

13/06/2022

भारतीय रिजर्व बैंक ने 'मुधोल कूप बैंक' का लाइसेंस रद्द किया**

लाइसेंस रद्द होने के साथ, बैंक बैंकिंग कार्य नहीं कर सकता है अर्थात जमा की स्वीकृति और पुनर्भुगतान।

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

13/06/2022

निर्मला सीतारमण ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लिए 5.0 'आम सुधार एजेंडा' का शुभारंभ किया

MDs, मुख्य कार्यकारी अधिकारियों & सार्वजनिक बैंकों के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने वर्चुअल रूप से इस कार्यक्रम में भाग लिया

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

13/06/2022

ब्यूटी रिटेलर पर्पल 33 मिलियन डॉलर के साथ भारत का 102वां यूनिकॉर्न बना**

एड-टेक स्टार्ट-अप फिजिक्सवाला के बाद, जून 2022 के महीने में यूनिकॉर्न टैग हासिल करने वाली यह दूसरी फर्म है।

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

preparing for jeet

क्या आप सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं?

यह आपकी जीत का रास्ता है

View courses