प्रधानमंत्री ने गुजरात में दुनिया के पहले नैनो यूरिया (लिक्विड) संयंत्र का उद्घाटन किया

राष्ट्रीय

प्रधानमंत्री ने गांधीनगर के महात्मा मंदिर में 'सहकार से समृद्धि' पर विभिन्न सहकारी संस्थाओं के नेताओं के संगोष्ठी को संबोधित किया। उन्होंने कलोल में भारतीय किसान उर्वरक सहकारी लिमिटेड (इफको) में निर्मित विश्व के पहले नैनो यूरिया (लिक्विड) संयंत्र का उद्घाटन किया।

प्रदेश में 84 हजार से अधिक सहकारी समितियां हैं। सहकार से समृद्धि पर विभिन्न सहकारी संस्थाओं के नेताओं के संगोष्ठी का आयोजन राज्य में सहकारिता आंदोलन को और मजबूत करने की दिशा में एक और कदम है। संगोष्ठी में राज्य के विभिन्न सहकारी संस्थानों के 7,000 से अधिक प्रतिनिधि भाग लेंगे।

नैनो यूरिया (लिक्विड) संयंत्र को किसानों को उत्पादकता बढ़ाने और उनकी आय बढ़ाने में मदद करने के लिए लगभग 175 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। नैनो यूरिया के उपयोग से फसल की पैदावार में वृद्धि को ध्यान में रखते हुए अल्ट्रामॉडर्न नैनो फर्टिलाइजर प्लांट की स्थापना की गई है। संयंत्र प्रतिदिन 500 मिलीलीटर की लगभग 1.5 लाख बोतलों का उत्पादन करेगा।

 

   परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण बिंदु:

  • विश्व का पहला नैनो यूरिया (लिक्विड) संयंत्र कलोल में भारतीय किसान उर्वरक सहकारी लिमिटेड (इफको) में बनाया गया।
  • संयंत्र किसानों की उत्पादकता बढ़ाने और उनकी आय बढ़ाने में मदद करने का साधन प्रदान करता है।
  • नैनो यूरिया के उपयोग से फसल की पैदावार में वृद्धि को ध्यान में रखते हुए अल्ट्रामॉडर्न नैनो उर्वरक संयंत्र की स्थापना की गई है।

   जानने के लिए तथ्य:

  • गुजरात के मुख्यमंत्री: भूपेंद्र रजनीकांत पटेल
  • गुजरात में राष्ट्रीय उद्यान: गिर राष्ट्रीय उद्यान, समुद्री राष्ट्रीय उद्यान, भावनगर काला हिरण राष्ट्रीय उद्यान।

Related Current Affairs

preparing for jeet

क्या आप सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं?

यह आपकी जीत का रास्ता है

View courses