सुपर कंप्यूटर परम पोरुल का एनआईटी त्रिची में उद्घाटन

रक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी

राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन (एनएसएम) के चरण 2 के तहत एनआईटी तिरुचिरापल्ली में एक अत्याधुनिक सुपरकंप्यूटर 'परम पोरुल' का उद्घाटन किया गया। इसका उद्घाटन श्री भास्कर भट, अध्यक्ष बोर्ड ऑफ गवर्नर्स, तिरुचिरापल्ली ने किया। NSM इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) और विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) की एक संयुक्त पहल है।

सुपर कंप्यूटर को सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ एडवांस्ड कंप्यूटिंग (सी-डैक) द्वारा विकसित किया गया था।

इस सुपर कंप्यूटर को बनाने के लिए इस्तेमाल किए गए घटकों को स्वदेशी सॉफ्टवेयर स्टैक के साथ देश के भीतर निर्मित और असेंबल किया गया है।

सिस्टम विभिन्न वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग अनुप्रयोगों की कंप्यूटिंग जरूरतों को पूरा करने के लिए सीपीयू नोड्स, जीपीयू नोड्स, हाई मेमोरी नोड्स, हाई थ्रूपुट स्टोरेज और हाई-परफॉर्मेंस इनफिनिबैंड इंटरकनेक्ट के मिश्रण से लैस है।

नेशनल सुपरकंप्यूटिंग मिशन (NSM) के तहत, अक्टूबर 2020 में, NIT तिरुचिरापल्ली और सेंटर फॉर डेवलपमेंट इन एडवांस्ड कंप्यूटिंग (C-DAC) के बीच 838 टेराफ्लॉप्स सुपरकंप्यूटिंग सुविधा स्थापित करने के लिए एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए गए थे।

सुपरकंप्यूटर में विभिन्न वैज्ञानिक डोमेन जैसे मौसम और जलवायु, जैव सूचना विज्ञान, कम्प्यूटेशनल रसायन विज्ञान, आणविक गतिशीलता, सामग्री विज्ञान, कम्प्यूटेशनल फ्लूड डायनेमिक्स आदि से कई अनुप्रयोग हैं, शोधकर्ताओं के लाभ के लिए सिस्टम पर स्थापित किया गया है।

इस मिशन के तहत, वर्तमान में पूरे देश में 24 पेटाफ्लॉप की गणना क्षमता के साथ 15 सुपर कंप्यूटर स्थापित किए गए हैं। इन सभी सुपर कंप्यूटरों का निर्माण भारत में किया गया है और यह स्वदेशी रूप से विकसित सॉफ्टवेयर स्टैक के साथ काम करते हैं।

 

   परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण बिंदु:

  • सुपरकंप्यूटर 'परम पोरुल' का उद्घाटन राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन (एनएसएम) के चरण 2 के तहत एनआईटी तिरुचिरापल्ली में किया गया था।
  • सुपर कंप्यूटर को सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ एडवांस्ड कंप्यूटिंग (सी-डैक) द्वारा विकसित किया गया था।
  • सिस्टम विभिन्न वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग अनुप्रयोगों की कंप्यूटिंग जरूरतों को पूरा करने के लिए सीपीयू नोड्स, जीपीयू नोड्स, हाई मेमोरी नोड्स, हाई थ्रूपुट स्टोरेज और हाई-परफॉर्मेंस इनफिनिबैंड इंटरकनेक्ट के मिश्रण से लैस है।
  • सुपरकंप्यूटर में विभिन्न वैज्ञानिक डोमेन जैसे मौसम और जलवायु, जैव सूचना विज्ञान, कम्प्यूटेशनल रसायन विज्ञान, आणविक गतिशीलता, सामग्री विज्ञान, कम्प्यूटेशनल फ्लूड डायनेमिक्स आदि से कई अनुप्रयोग हैं, शोधकर्ताओं के लाभ के लिए सिस्टम पर स्थापित किया गया है।

   जानने के लिए तथ्य:

  • सी-डैक इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत कार्य करता है।
  • राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन (NSM) 2015 में शुरू किया गया था।
  • भारत का पहला सुपर कंप्यूटर: परम 8000 - परम का मतलब पैरेलल मशीन है।
  • भारत के सबसे तेज सुपर कंप्यूटर: प्रत्युष और मिहिर।

Related Current Affairs

preparing for jeet

क्या आप सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं?

यह आपकी जीत का रास्ता है

View courses