मुद्रास्फीति की मार: एसएंडपी ने वित्त वर्ष 2023 की वृद्धि दर को 7.8% से घटाकर 7.3% कर दिया

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

वित्तीय वर्ष 2023 के लिए, भारत की जीडीपी वृद्धि का अनुमान 7.8% के पिछले पूर्वानुमान से कम होकर 7.3% हो गया। यह रेटिंग एजेंसी, एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स द्वारा अनुमान लगाया गया था।

बढ़ते मुद्रास्फीति दबाव और अपेक्षा से अधिक लंबे समय तक रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण सकल घरेलू उत्पाद के पूर्वानुमान में गिरावट आई। अन्य कारणों में कई देशों में कमजोर पहली तिमाही संख्या, तेज मौद्रिक नीति सामान्यीकरण और धीमी चीनी विकास के रूप में उद्धृत किया गया है। तेजी से मौद्रिक नीति सामान्यीकरण पहले की अपेक्षा अधिक मांग को धीमा कर देगा।

एजेंसी ने अनुमान लगाया कि चालू वित्त वर्ष के लिए भारत के लिए मुद्रास्फीति पूर्वानुमान 90 आधार अंक (बीपीएस) बढ़कर 6.3% हो गया। ईंधन और खाद्य मुद्रास्फीति उच्च बनी रहेगी, भले ही मूल मुद्रास्फीति में गिरावट आए, जो मुद्रास्फीतिजनित मंदी की ओर ले जाती है।

रेटिंग एजेंसी ने वित्त वर्ष 2022 के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन की विकास दर क्रमशः 2.4% और 4.2% रहने का अनुमान लगाया है।

इससे पहले, वर्ल्ड इकोनॉमिक सिचुएशन एंड प्रॉस्पेक्ट्स रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया था कि चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि 6.4% होगी जो कि पिछले अनुमान 6.7% से कम है। उच्च मुद्रास्फीति के दबाव और श्रम बाजार की असमान वसूली निजी खपत और निवेश पर अंकुश लगाएगी। रिपोर्ट संयुक्त राष्ट्र (यूएन) द्वारा जारी की गई थी।

इससे पहले, देश के सेंट्रल बैंक, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने भी चालू वित्त वर्ष के लिए देश के विकास अनुमान को घटाकर 7.2% और अगले वित्तीय वर्ष के लिए 6.5% कर दिया था।

 

   परीक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण बिंदु:

  • एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स का अनुमान है कि वित्त वर्ष 2023 के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि का अनुमान 7.8% के पिछले पूर्वानुमान से घटकर 7.3% रह गया है।
  • बढ़ते मुद्रास्फीति दबाव और अपेक्षा से अधिक लंबे समय तक रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण सकल घरेलू उत्पाद के पूर्वानुमान में गिरावट आई।
  • एजेंसी ने अनुमान लगाया कि चालू वित्त वर्ष के लिए भारत के लिए मुद्रास्फीति पूर्वानुमान 90 आधार अंक (बीपीएस) बढ़कर 6.3% हो गया।
  • रेटिंग एजेंसी ने वित्त वर्ष 2022 के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन की विकास दर क्रमशः 2.4% और 4.2% रहने का अनुमान लगाया है।
  • इससे पहले, वर्ल्ड इकोनॉमिक सिचुएशन एंड प्रॉस्पेक्ट्स रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया था कि चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि 6.4% होगी जो कि पिछले अनुमान 6.7% से कम है।

   जानने के लिए तथ्य:

  • एस&पी ग्लोबल रेटिंग एक अमेरिकी क्रेडिट रेटिंग एजेंसी है जिसकी स्थापना 1860 में हुई थी।
  • एस एंड पी ग्लोबल रेटिंग्स का मुख्यालय: न्यूयॉर्क, यूएसए।
  • आरबीआई ने चालू वित्त वर्ष के लिए देश के विकास अनुमान को घटाकर 7.2% कर दिया।

Related Current Affairs

13/06/2022

भारतीय रिजर्व बैंक ने 'मुधोल कूप बैंक' का लाइसेंस रद्द किया**

लाइसेंस रद्द होने के साथ, बैंक बैंकिंग कार्य नहीं कर सकता है अर्थात जमा की स्वीकृति और पुनर्भुगतान।

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

13/06/2022

निर्मला सीतारमण ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लिए 5.0 'आम सुधार एजेंडा' का शुभारंभ किया

MDs, मुख्य कार्यकारी अधिकारियों & सार्वजनिक बैंकों के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने वर्चुअल रूप से इस कार्यक्रम में भाग लिया

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

13/06/2022

ब्यूटी रिटेलर पर्पल 33 मिलियन डॉलर के साथ भारत का 102वां यूनिकॉर्न बना**

एड-टेक स्टार्ट-अप फिजिक्सवाला के बाद, जून 2022 के महीने में यूनिकॉर्न टैग हासिल करने वाली यह दूसरी फर्म है।

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

preparing for jeet

क्या आप सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं?

यह आपकी जीत का रास्ता है

View courses