महाराष्ट्र में हीट-वेव के कारण 25 लोगों की मृत्यु

राष्ट्रीय

महाराष्ट्र में अभूतपूर्व गर्मी की लहर के कारण अब तक कम से कम 25 लोगों की मृत्यु हुई है, जो 2016 के बाद से सबसे अधिक है। इसके अलावा, इस साल मार्च और अप्रैल में हीट स्ट्रोक के 374 मामले सामने आए हैं। कुछ क्षेत्रों में, पारा बढ़कर 46 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच गया जो पिछले 100 वर्षों में रिकॉर्ड उच्चतम आंकड़ा है।

राज्य में लू लगने के मामलों की संख्या 375 के आसपास है।

25 लोगों में से 15 म्रत्यु विदर्भ में हुई हैं जो सबसे ज्यादा मृत्यु वाला शहर है।  जहां तापमान 40C से 46C तक है।

चंद्रपुर वैश्विक हॉटस्पॉट में से एक है, जहां तापमान 46 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है। विशेष रूप से राज्य के उत्तरी और मध्य भागों में 40C-46C के बीच रहता है और अधिकांश स्थानों पर मार्च के अंत से तापमान 35 और 46 डिग्री के बीच रहता है।

यह राज्य में पिछले सात वर्षों में गर्मी की लहर के कारण सबसे अधिक संख्या है - 2016 (19 मौतें), 2018 (2 मौतें), 2019 (9 मौतें)। गर्मी की लहर के कारण ऊर्जा की मांग 28,276 मेगावाट के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई थी।

जिला स्वास्थ्य समिति ने पुष्टि की कि ये 25 मौतें पीड़ित के लक्षणों, गर्मी के संपर्क में आने, पिछले 72 घंटों के तापमान-आर्द्रता के स्तर जहां मौत हुई थी, के आधार पर हीट-वेव या हीट-स्ट्रोक के कारण हुईं। हीट स्ट्रोक एक गंभीर गर्मी से संबंधित आपात स्थिति है जो तब होती है जब शरीर गर्मी के संपर्क में आने के कारण अपने आंतरिक तापमान को नियंत्रित करने में असमर्थ होता है।

हीटवेव असामान्य रूप से उच्च तापमान यानी लगातार पांच या अधिक दिनों की अवधि है, जिसके दौरान दैनिक अधिकतम तापमान औसत अधिकतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस से अधिक हो जाता है। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार मैदानी इलाकों का सामान्य तापमान 40 डिग्री सेल्सियस और पहाड़ी इलाकों में 30 डिग्री सेल्सियस रहता है। जब अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के बराबर या उससे अधिक होता है, तो यह एक हीटवेव होती है, जबकि अगर यह 47 डिग्री सेल्सियस या उससे अधिक है, तो यह एक गंभीर हीटवेव है।

 

   परीक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण बिंदु:

  • चल रही गर्मी की लहर ने महाराष्ट्र में 25 लोगों की मृत्यु हुई और इस साल मार्च और अप्रैल में हीट स्ट्रोक के लगभग 370 मामले सामने आए।
  • कुछ क्षेत्रों में, थर्मामीटर में पारा बढ़कर 46 डिग्री सेल्सियस हो गया जो पिछले 100 वर्षों में रिकॉर्ड उच्च स्तर है।
  • 25 लोगों में से 15 मौतें विदर्भ में हुई हैं, जहां तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से 46 डिग्री सेल्सियस के बीच है।
  • गर्मी की लहर के कारण ऊर्जा की मांग 28,276 मेगावाट के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई थी।
  • लगातार पांच या अधिक दिनों तक, यदि दैनिक अधिकतम तापमान औसत अधिकतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस से अधिक हो जाता है तो इसे गर्मी की लहर माना जाता है।

   जानने के लिए तथ्य:

  • मौसम विज्ञान - विज्ञान की एक शाखा जो वातावरण और उसकी विभिन्न घटनाओं से संबंधित है।
  • भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) की स्थापना 1875 में हुई थी।
  • आईएमडी पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के तहत कार्य करता है।

Related Current Affairs

preparing for jeet

क्या आप सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं?

यह आपकी जीत का रास्ता है

View courses