बैंक ऑफ बड़ौदा ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए मोबाइल ऐप पर बॉब वर्ल्ड गोल्ड लॉन्च करने की घोषणा की

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

बैंक ऑफ बड़ौदा ने अपने मोबाइल बैंकिंग प्लेटफॉर्म पर 'बॉब वर्ल्ड गोल्ड' नामक एक नई सुविधा शुरू की जो 250 बैंकिंग सेवाएं प्रदान करती है। यह नई सुविधा विशेष रूप से वरिष्ठ नागरिकों और बुजुर्ग नागरिकों (यानी 60 वर्ष और उससे अधिक) के लिए डिज़ाइन की गई है।

यह नई सुविधा अपने वरिष्ठ ग्राहकों को एक सरल, उपयोग में आसान इंटरफ़ेस, सुगम, वरिष्ठ नागरिकों के लिए अनुकूलित और सुरक्षित मोबाइल बैंकिंग अनुभव प्रदान करती है। बॉब वर्ल्ड गोल्ड के पीछे का विचार इस जनसांख्यिकी के लेंस से हर तत्व को देखना और डिजिटल बैंकिंग प्लेटफॉर्म से उनकी विशिष्ट आवश्यकताओं को समझना था।

मोबाइल एप्लिकेशन में नई सुविधा में आसान नेविगेशन, बड़े फोंट, पर्याप्त रिक्ति, और अतिरिक्त सुविधाओं के साथ स्पष्ट मेनू हैं जैसे कि रेडी-टू-असिस्ट वॉयस आधारित खोज सेवा। अंतिम परिणाम हमारे ग्राहकों के लिए एक सरल, स्मार्ट, अधिक व्यक्तिगत और वरिष्ठ-अनुकूल बैंकिंग अनुभव है और यह सुनिश्चित करेगा कि वे बैंकिंग सेवाओं की एक श्रृंखला को डिजिटल रूप से उनके लिए अनुकूल तरीके से एक्सेस करने में सक्षम हैं।

डिजिटल सेवाओं की खपत के लिए ग्राहकों के लिए इस नई सुविधा की शुरूआत एक महत्वपूर्ण खंड है, क्योंकि वरिष्ठ नागरिकों की जनसंख्या 2031 तक बढ़कर 192 मिलियन होने का अनुमान है।

बैंक ऑफ बड़ौदा भारत का चौथा सबसे बड़ा राष्ट्रीयकृत बैंक है। 1969 में इसका राष्ट्रीयकरण किया गया और इसे लाभ कमाने वाले सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (PSU) के रूप में नामित किया गया।

 

   परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण बिंदु:

  • बैंक ऑफ बड़ौदा ने अपने मोबाइल बैंकिंग प्लेटफॉर्म पर एक नया फीचर 'बॉब वर्ल्ड गोल्ड' पेश किया है।
  • वरिष्ठ नागरिकों (अर्थात 60 वर्ष और उससे अधिक) की सहायता के लिए नई सुविधा शुरू की गई और उन्हें लगभग 250 बैंकिंग सेवाएं प्रदान की गईं।
  • यह नई सुविधा अपने वरिष्ठ ग्राहकों को एक सरल, उपयोग में आसान इंटरफ़ेस, सुगम, वरिष्ठ नागरिकों के लिए अनुकूलित और सुरक्षित मोबाइल बैंकिंग अनुभव प्रदान करती है।
  • बॉब वर्ल्ड गोल्ड के पीछे का विचार इस जनसांख्यिकी के लेंस से हर तत्व को देखना और डिजिटल बैंकिंग प्लेटफॉर्म से उनकी विशिष्ट आवश्यकताओं को समझना था।

   जानने के लिए तथ्य:

  • बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना वर्ष 1908 में हुई थी।
  • बैंक ऑफ बड़ौदा का मुख्यालय: वडोदरा.
  • बैंक ऑफ बड़ौदा के एमडी और सीईओ: श्री संजीव चड्ढा।
  • बैंक ऑफ बड़ौदा की टैगलाइन: भारत का अंतर्राष्ट्रीय बैंक।

Related Current Affairs

13/06/2022

भारतीय रिजर्व बैंक ने 'मुधोल कूप बैंक' का लाइसेंस रद्द किया**

लाइसेंस रद्द होने के साथ, बैंक बैंकिंग कार्य नहीं कर सकता है अर्थात जमा की स्वीकृति और पुनर्भुगतान।

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

13/06/2022

निर्मला सीतारमण ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लिए 5.0 'आम सुधार एजेंडा' का शुभारंभ किया

MDs, मुख्य कार्यकारी अधिकारियों & सार्वजनिक बैंकों के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने वर्चुअल रूप से इस कार्यक्रम में भाग लिया

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

13/06/2022

ब्यूटी रिटेलर पर्पल 33 मिलियन डॉलर के साथ भारत का 102वां यूनिकॉर्न बना**

एड-टेक स्टार्ट-अप फिजिक्सवाला के बाद, जून 2022 के महीने में यूनिकॉर्न टैग हासिल करने वाली यह दूसरी फर्म है।

बैंकिंग और अर्थव्यवस्था

preparing for jeet

क्या आप सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं?

यह आपकी जीत का रास्ता है

View courses