विश्व मलेरिया दिवस 2022

महत्वपूर्ण दिन, पुस्तकें और लेखक

मलेरिया रोग के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा हर साल 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाता है। यह दिन डब्ल्यूएचओ द्वारा चिह्नित ग्यारह आधिकारिक वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियानों में से एक है।

इस वर्ष, डब्ल्यूएचओ ने इस दिन को ‘हार्नेस इनोवेशन टू रिड्यूस द मलेरिया डिजीज बर्डन एंड सेव लाइव' विषय के साथ मनाने का फैसला किया।

मलेरिया एक जानलेवा मच्छर जनित रक्त रोग है जो 'प्लाज्मोडियम परजीवी' नामक परजीवी के कारण होता है जो मादा एनोफिलीज मच्छर के काटने से मनुष्यों में फैलता है। यदि मलेरिया परजीवी से संक्रमित व्यक्ति में आमतौर पर संक्रमण के 10-15 दिनों के भीतर लक्षण दिखना शुरू होते है। मलेरिया के लक्षणों में बुखार, ठंड लगना, सिरदर्द, मतली, उल्टी, थकान, पेट में दर्द, तेजी से सांस लेना और खांसी आदि शामिल हैं। यह रोकथाम योग्य होने के साथ-साथ इलाज योग्य भी है।

वर्ष 2020 में, मलेरिया के अनुमानित 241 मिलियन नए मामले सामने आए और 85 देशों में 627, 000 मलेरिया से संबंधित मौतें हुईं। कुल मौतों में, दो-तिहाई मौतें अफ्रीकी क्षेत्र में रहने वाले 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चे भी शामिल थे।

वर्ष 2027 तक मलेरिया मुक्त देश और 2030 तक मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा 'मलेरिया उन्मूलन के लिए राष्ट्रीय रणनीतिक योजना' शुरू की गई थी।

   परीक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण बिंदु:

  • विश्व मलेरिया दिवस हर साल 25 अप्रैल को मनाया जाता है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा मलेरिया रोग के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए यह दिन मनाया जाता है।
  • वर्ष 2022 के लिए तय की गई थीम 'हार्नेस इनोवेशन टू रिड्यूस द मलेरिया डिजीज बर्डन एंड सेव लाइव' है।
  • मलेरिया एक जानलेवा मच्छर जनित रक्त रोग है जो 'प्लाज्मोडियम परजीवी' नामक परजीवी के कारण होता है।
  • यह रोग मादा मच्छर एनोफिलीज के माध्यम से लोगों में फैलता है।
preparing for jeet

क्या आप सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं?

यह आपकी जीत का रास्ता है

View courses